Village Horny Sister – मेरी फुद्दी गीली कर दिया चुदाई की कहानी सुना कर


Village Horny Sister

Long Sexy Kahani मेरा नाम आशा रानी है और सभी मुझे आशु कह कर बुलाते हैं। मेरी उम्र पच्चीस साल है और मेरी शादी एक आर्मी ऑफिसर के साथ होने वाली है। पहले तो मैं शादी से बहुत डरती क्योंकि दो साल पहले मैं अपने गांव के एक लड़के बबलू से अपनी चूत की सील तुड़वा बैंठी थी। पर अब मैं बहुत खुश हूं क्योंकि जिस लड़के से मेरी शादी होने वाली है बह एक बार मुझे बहका कर चोद चुका है और बहुत खुश हैं। Village Horny Sister

मैं गांव के सब से मुखिया की बेटी हूं और बहुत ही सुन्दर सेहतमंद और गठीले बदन की मालिक हूं। मैं हमेशा टाइट कुर्ता और सलवार पहनी हूं। मेरी लंम्बी चोटी मेरी मस्त गांड के नीचे तक लटकती है। जब मैं चलती हूं तो मेरी चूत के नीचे मांसल जांघें आपस में घिसकर चलती हैं। कभी किसी लड़के ने मेरी तरफ़ नज़र उठाने की हिम्मत नहीं की थी।

पर दो साल पहले की बात है जब मैं तेईस साल की थी और मेरा छोटा भाई अठारह साल का था। जिसका नाम प्रदीप है और बहुत ही स्मार्ट है। गांव के सभी लोग उसे दीपू कह कर बुलाते हैं। उसकी हमारे गांव के एक लड़के बबलू से बचपन से ही दोस्ती है। बबलू भी उसी की उम्र का लड़का है पर बहुत ही शरीफ है।

बह जब भी हमारे घर पर आता है और घर के बड़ों के इलावा बह मेरे भी पैर छूता है और मुझे बड़ी बहन ही समझता था। अब मैं अपनी कहानी पर आती हूं। मैं कुछ दिनों से नोटिस कर रही थी कि मेरा भाई दीपू बहुत बन संवर के घर से ट्यूशन पढ़ने जा रहा था और कुछ न कुछ बहाना बना कर मम्मी डैडी से कुछ ज्यादा ही पैसे ले रहा था तो मुझे कुछ शक होने लगा कि कहीं यह कोई नशा वगैरा तो नहीं कर रहा था.

पर एक दिन मैंने चोरी से उसे किसी लड़की से रोमांटिक बातें करते हुए सुन लिया तो मैं समझ गई कि यह अब बड़ा हो गया है और किसी लड़की के चक्कर में पड़ रहा है तो मैंने सोचा कि खुद सुधर जाएगा। पर एक दिन शाम को बह तैयार हो कर मम्मी को कहने लगा कि बह आज रात अपने दोस्त बबलू के घर पर रह कर ही रहेगा कुछ जरूरी नोट्स बनाने हैं तो मम्मी मान गई।और बह चला गया।

थोड़ी देर के बाद मामा जी का फोन आया और उन्होंने मेरे मम्मी पापा को उस रात को उनके घर आने को बोला क्योंकि सुबह उन्हें अपनी बेटी के लिए लड़का पसंद करने जाना और कुछ आपस में सलाह मशविरा भी करना था तो पापा ने ने मुझे कहा कि तुम दीपू को बापस बुला लेना और बह गाड़ी लेकर चले गए।

थोड़ी देर बाद मैंने दीपू को फ़ोन किया तो उसका फोन बिज़ी आ रहा था तो मैंने बबलू को काल किया तो जब बबलू ने फ़ोन उठाया तो मैंने दीपू को फ़ोन पर किसी लड़की से बात करते सुन लिया और यह कहते सुना कि रात भर एंज्वॉय करेंगे तुम अपनी सहेली के घर का बहाना बना लेना।

फिर मैंने बबलू ने मेरी बात दीपू से करवाई तो दीपू ने जवाब दिया कि दीदी मैं रात को नहीं आ पाऊंगा क्योंकि हमारे घर में कंप्यूटर ख़राब है और मुझे बबलू के कंप्यूटर पर काम करना है पर मैं बबलू को रात को भेज दूंगा और बह रात भर वहीं रहेगा। पर मैंने जब थोड़ा उसे ही आने को कहा तो बह मेरी खुशामद करते हुए बोला कि दीदी प्लीज़ मान जाओ ना मेरी प्यारी प्यारी अच्छी दीदी प्लीज़। तो मैं मान गई।

फिर उसने कहा कि दीदी आप खाना बबलू के आने के बाद ही खाना क्यों कि यहां पर मेरे लिए देसी मुर्गा कट रहा है पर मैं और बबलू ही खाने वाले हैं और आज इनके घर वाले दो दिन के लिए कहीं गये हुए हैं। मैंने उसे फ़ोन पर किस्स करते हुए वाय कहा और फोन काट दिया। फिर मैं घर पर बैठ कर सोचने लगी कि आज मेरा भाई किसी को चोदने वाला है।बह कैसी होगी । और बह कैसे चोदेगा ।यह सोच कर मेरी फुद्दी भी पहली बार गीली होने लगी।

और मैं सोचने लगी कि मुझ से तो मेरा छोटा भाई ही भाग्यशाली निकला जो सैक्स का मज़ा तो लेगा । फिर मैं मायूस होकर सोचने लगी कि बह तो लडका है उसे क्या फर्क पड़ेगा पर अगर मैं शादी से पहले ऐसा करूंगी तो मेरी सील टूट जाएगी। फिर मैं अपने पति को क्या जवाब दूंगी।

मैंने बाथरूम में घुस कर अपनी सलवार का नाड़ा खोल कर अपनी भूरे बालों वाली फुद्दी पर हाथ फेरा और उसमें अपनी अपनी पतली उंगली घुसाने लगी फिर मैंने ऐसा नहीं किया और फुद्दी को बाहर से ही मसल कर थोड़ी राहत पाई।जब रात के आठ बजे तो मैं बबलू के घर की तरफ निकल पड़ी। उनका घर गांव से थोड़ा बाहर खेतों में है और उनके घर में अभी गेट भी नहीं लगा था।

जब मैं बबलू के घर के बाहर पहुंची तो देखा कि बबलू घर के बाहर टहल रहा था और बाहर की लाईट जली हुई थी।घर के कमरों की भी लाईट आन थी । मुझे देखते ही बबलू हड़बड़ा कर मेरी तरफ आया और कहने लगा कि दीदी आप यहां क्यों आईं मैं तो थोड़ी देर में आपके पास आने वाला था।

पर मैंने कहा कि मैं दीपू को देखने आई हूं कि बह क्या कर रहा है तो बबलू ने मेरे पैर पकड़ लिए और बोला कि दीदी आप यहां से चले जाइए प्लीज दीपू को डिस्टर्ब मत कीजिए बह एक जरूरी काम कर रहा है तो मैंने कहा कि मैं उसे डिस्टर्ब नहीं करूंगी बस एक बार उसे देख कर चली जाऊंगी।

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : भैया ने दुल्हन बनने की इच्छा पूरी कर दी

तो बबलू बोला कि दीदी मैंने दीपू से प्रोमिस किया है कि रात भर कोई उसे डिस्टर्ब नहीं करेगा तो मैंने कहा कि तुम एक बार मुझे उसे ऐसे दिखाओ कि उसे पता ही नहीं चले तो बबलू ने कहा कि दीदी आप उसे देख कर नाराज़ तो नहीं होंगी तो मैंने कहा कि मैं तुम से प्रोमिस करती हूं कि मैं अपने भाई को कभी इसके बारे में नहीं पूछूंगी।

तो बबलू ने कहा कि दीदी आप रुको मैं उस कमरे के बाहर की लाइट आफ करके आता हूं ताकि आप खिड़की के बाहर अंधेरे में खड़े हो कर उसको देख सको। फिर बह लाईट आफ करके मेरे पास आ कर बोला कि दीदी आप जाईए और बाहर से दीपू को देखकर जल्दी बापस आ जाईए। फिर हम दोनों आप के घर चलते हैं।

तो मैंने कहा कि तुम भी मेरे साथ चलो और बाहर से दीपू को दिखाओ तो उसने कहा कि दीदी मुझे आप से शर्म आएगी।आप अकेले ही जा कर देख लीजिए। तो मैंने बबलू का हाथ पकड़ लिया और अपने साथ ले गयी। जब हमने अंधेरे में खड़े हो कर खिड़की के बाहर से अंदर झांका तो मैं अंदर का दृश्य देखकर हैरान हो गई। “Village Horny Sister”

दीपू सिर्फ अंडरवियर में था और एक सोलह साल की लड़की जो सिर्फ पैंटी में थी उसके संतरे जितने जितने स्तनों को चूस रहा था और उसकी पैंटी में हाथ डाल कर उसकी फुद्दी को सहला रहा था लड़की दीपू के लंड को अंडरवियर के ऊपर से मसल रही थी। फिर उस लड़की ने दीपू के लंड को अंडरवियर में से बाहर निकाल कर अपने हाथ में पकड़ लिया और झुक कर उसे अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।

दीपू को लंड लोहे की रॉड जैसा तन गया और दीपू आहें भरने लगा ।तभी दीपू ने लड़की को उठा कर बेड पे लिटा दिया और उसकी पैंटी को उतार दिया।जब मेरी नज़र उसकी फुद्दी पर पड़ी तो मैंने देखा कि लड़की की फुद्दी पर अभी नये नये भूरे रंग के बाल निकले थे। दीपू ने लड़की की पतली पतली टांगों को फैला दिया और उसकी फुद्दी के सुराख को टटोल कर उसमें अपनी एक उंगली डाल कर आगे पीछे करने लगा।

लड़की के मुंह से सिसकारियां निकलने लगी। फिर दीपू।सहला रही थी और आहें भर रही थी। तभी दीपू उसकी फैली हुई टांगों के बीच बैठ गया और अपने गोरे लंड पे थूक लगा कर लड़की की छोटी सी फुद्दी में लंड को घुसाने लगा।उसका लंड एक ही झटके में पूरा फुद्दी में चला गया । फिर जब बह धक्के लगाने लगा तो मैं यह देख कर बहुत गर्म हो गई और मेरी फुदी बिल्कुल गीली हो गई। “Village Horny Sister”

मेरा दिल धड़कने लगा और मैं चाहने लगी कि बबलू को कस कर अपने गले से लगा लूं ।तब मैंने देखा कि बबलू वहां से चला गया था ।और फिर मैं भी वहां से हट गरी और आपने घर को बापस आने लगी तो रास्ते में बबलू नजरें झुकाए खड़ा था और बह मुझ से बोला कि दीदी आप थोड़ी देर अंधेरे में छुप कर मेरा इंतजार करो फिर मैं भी आपके साथ चलता हूं।

मैं एक पेड़ के पीछे अंधेरे में खड़े हो कर बबलू का इंतजार करने लगी और सोचने लगी कि बह इतनी छोटी सी लड़की पूरा लन्ड आराम से झेल गई।और मेरी इतनी बड़ी फूली हुई फुद्दी ने आजतक कोई लंड ही नहीं चखा।और मेरे दिल में सैक्स के बारे में ख्याल आने लगे। थोड़ी देर बाद दीपू ने अंडरवियर पहने हुए दरवाजा खोला और बाहर आकर बबलू से बोला कि तुम अभी गये नहीं मेरी दीदी घर में अकेली तुम्हारा इंतज़ार कर रही होगी।

तो बबलू ने कहा कि मैंने अपने और दीदी के लिए मुर्गा पैक कर लिया है और मैं जा रहा हूं पर तुम सुबह अंधेरे में ही इस लड़की को यहां से भेज देना ताकि किसी को कुछ पता न चल सके।तो दीपू ने कहा कि तुम चिंता न करो मैं अंदर से लाईट बंद कर के इस का पूरी रात मज़ा लूंगा।और फिर उसने दरवाजा अंदर से लॉक कर लिया।

बबलू हाथ में बड़ा सा टिफिन लिए मेरी तरफ़ आने लगा और फिर मैं और बबलू मेरे घर की तरफ़ चल दिए। रास्ते में हमने आपस में कोई भी बात नहीं की।फिर घर पहुंच कर हम ने खाना खाया पर खाते समय भी मैंने पाया कि बबलू मुझ से नजर नहीं मिला पा रहा था। फिर हम सोने की तैयारी करने लगे तो मैंने बबलू को भी मेरे कमरे में ही सोने को कहा तो बबलू दीपू के कमरे में सोने की के लिए कहने लगा.

तो मैंने कहा कि तुम मेरे कमरे में ही सोना पड़ेगा क्योंकि मुझे तुमसे दीपू के बारे में कुछ पूछना है। बबलू टीवी आन करके बैठ गया और मैंने अपने कमरे में में लगे डब्लबैड पर दो कम्बल रख दिये और रोज़ की तरह अपने कपड़े चेंज कर लिये। क्योंकि मैं रात को सोते समय ब्रा और पैंटी नहीं पहनती सिर्फ लूज़ टी-शर्ट और सलवार पहनी हूं।

फिर मैंने बबलू को दीपू की लूंगी पहनने को दे दी और मैं एक कम्बल ओढ़ कर लेट गई। फिर मैंने बबलू से कहा कि टीवी बंद करके अब सोने को आ जाओ।बबलू ने टीवी बंद कर दिया और बाथरूम में जाकर अपने कपड़े चेंज किए फिर मेन डोर अंदर से लॉक कर दिया और बाकी की लाईटें बंद करके लूंगी और बनियान पहने मेरे कमरे में सोने के लिए आ गया। “Village Horny Sister”

फिर मेरे कहने पर बह मेरे कमरे की लाइट आफ करके मेरे बैड पर दूसरा कम्बल ओढ़ कर चुपचाप लेट गया। कमरे में खामोशी छा गई।तब मैंने बात शुरू करते हुए कहा कि बबलू तुम मुझे एक बात बताओ कि लोग लड़कियों से यह काम कब से कर रहे हो तो बबलू ने जबाव दिया कि दीदी मैंने कुछ नहीं किया सिर्फ दीपू ने ही दो चार बार ऐसा किया है क्योंकि बहुत सी लड़कियां दीपू पर ही मरती हैं। मैं एक सीधा साधा लडका हूं और दीपू काफी स्मार्ट और हैंडसम है।

तो मैंने कहा कि क्या दीपू ने कभी तुम्हारे बारे में नहीं सोचा तो बबलू ने कहा कि दीदी क्या बताऊं बह मेरा जिगरी दोस्त है और हमेशा ही मेरे बारे में सोचता है पर मेरे नसीब में ऐसा नहीं है। उसने कयी बार लड़कियों को मेरे साथ सोने को मजबूत भी किया पर किसी भी लड़की ने मुझे वह काम करने नहीं दिया ।अब तो सभी लड़कियां मेरे नाम से डरती हैं। तो मैंने पूछा कि तुम इतने शरीफ लड़के हो फिर लड़कियां तुम से डरती क्यों हैं।

तो बबलू ने कहा कि मुझे बताने में बहुत शर्म आती है तो मैंने कहा कि मुझ से कोई बात मत छुपाओ और सच सच बताओ क्या बात है हो सकता मैं ही तुम्हारी कुछ मदद कर सकूं। तो उसने कहा कि दीदी आप भी मेरी कोई मदद नहीं कर सकते क्योंकि मेरा वह बहुत मोटा और लम्बा है जिसे देखकर लड़कियां भाग जाती हैं। तो मैने कहा कि तुम्हारा क्या मोटा है तो उसने कहा कि उसका नाम लेने में मुझे बहुत शर्म आती है तो मैंने कहा कि पूरी बात खुल कर बताओ अपनी दीदी शरमा नहीं।

तो बबलू ने एक आह भरी और कहने लगा कि कमी बार लड़कियां नंगी हो कर भी सोईं और प्यार से मेरे साथ चूमा चाटी भी की पर जब मैंने उन्हें चोदने के लिए अपना लंड निकाला तो इतना बड़ा लंड देख कर बह कहने लगीं कि हम इसे अपनी फुद्दी में में नहीं झेल सकतीं इस से हमारी फुद्दी फट जायेगी और मुझे किसी ने भी चोदने नहीं दिया। “Village Horny Sister”

तो मैंने कहा कि क्या तुम ने अभी तक किसी को भी नहीं चोदा तो उसने कहा मेरे मोटे लंड के बारे में किसी लड़की से हमारे कालेज कि इंग्लिश टीचर को पता चला जो चालीस साल की है और काफ़ी लम्बी चौड़ी और तलाकशुदा है उसने मुझे अपनी क्वार्टर में बुलाया और मुझ से चुदवा लिया।

और बह अब भी कभी मुझ से चुदवा लेती है। तो मैंने कहा कि क्या वह तुम्हारे लंड को देख कर डरी नहीं तो उसने कहा कि डरी तो थी पर बह आपकी तरह मजबूत शरीर की मालिक है और उसने हिम्मत करके मेरा पूरा लंड अपनी चूत में ले कर मज़ा लिया और मुझे भी जिंदगी में पहली बार पूरा मज़ा दिया। उसकी बातें सुनने में मुझे भी मज़ा आने लगा तो मैं उसके थोड़ा और पास खिसक गई और बोली कि मुझे उस चुदाई की पूरी कहानी खुल कर सुनाओ।

चुदाई की गरम देसी कहानी : Bhabhi Ki Suhagraat Dekhi Maine Chupke Se

मेरी बात सुनकर बबलू ने मुझे अपनी कहानी सुनानी शुरु कर दी। बबलू बताने लगा कि दीपू की एक गर्लफ्रेंड उसी मनीषा मैडम के पास ट्यूशन पढ़ने जाती थी और मैडम से काफी फ्री बातें कर लेती थी तो एक दिन मैडम ने उस से उसके बायफ्रेंड के बारे में पूछा तो उस लड़की ने अपने और दीपू की सारी कहानी सुना दी.

फिर उसने मैडम की सैक्स लाइफ के बारे में पूछा तो मैडम ने कहा कि बह बहुत दिनों से प्यासी है और चाहती है कि कोई शरीफ लड़का जिसका लंड मोटा तगड़ा हो और जो उस की जी भर कर प्यास बुझा दे अगर मिल जाए तो बह उस के साथ सैक्स करना चाहेगी। तो लड़की ने मेरे लंड की तारीफ उसको सुना दी तो मैडम ने उसे कहा कि संडे की रात को उस लड़के को मेरे क्वार्टर में भेज देना मैं पूरी रात उस से चुदवाना चाहती हूं।

दूसरे दिन उसने इसके बारे में दीपू से बात की और दीपू ने मुझे इस काम के लिए मना लिया।उस संडे को दीपू ने मुझे मेरी झांटें साफ़ कर के रखने को कहा और फिर दीपू ने मुझे दिन में देसी मुर्गा भी खिलाया और शाम को नहा धोकर लंड पे खुशबूदार क्रीम लगा कर तैयार रहने को कहा। फिर शाम को दीपू हमारे घर पर आ गया और मेरी मम्मी को बोला कि बबलू आज रात भर हमारे घर पर रहकर मेरे साथ पढ़ाई करेगा तो मेरी मम्मी मां गरी। “Village Horny Sister”

फिर दीपू मुझे अपने घर पर ले आया और मैंने आप लोगों के साथ बैठकर खाना खाया फिर मैं और दीपू किताबें खोलकर पढ़ने का नाटक करने लगे।रात साढ़े दस बजे दीपू मुझे अपनी वाईक पर बैठा कर मुझे मेरे घर पर छोड़ने को निकला और मुझे मैडम के क्वार्टर के बाहर छोड़ आया।

जब मैंने मैडम का दरवाज़ा नाक किया तो मैडम ने धीरे से दरवाजा खोला और पूछा कि आप कौन तो मैंने कहा कि मैं बबलू तो मैडम ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अंदर खींच लिया और दरवाजा अन्दर से लॉक कर के मुझे अपनी बाहों में ले कर चूमने लगी। फिर मुझे अपने बेडरूम में ले जाकर वहां लगे एक सोफे पर बैठने को कहा और मेरे लिए काफ़ी बनाने रसोई में चली गई। मैंने मैडम को पीछे से जाते हुए देखा।

मैडम ने पर्पल कलर की झीनी सी नाइटी पहनी हुई थी और उसके अंदर ब्लैक कलर की ब्रा और पैंटी थी जिनमें से मैडम की गोरी मांसल जांघें और चौड़ी हिप्स नजर आर रही थी जो पीछे की तरफ उभरी हुई थी। मैडम के खुले लम्बे बाल उसकी कमर तक लटक रहे थे। उसकी कमर भी थोड़ी पतली थी शायद बह काफी कसरत या योगा करती होगी। मेरा दिल धक धक कर रहा था कि अब क्या होगा।

तभी बह दो कप कॉफी लेकर आ गई और मुझे एक कप थमाते हुए मेरे पास सोफे पर ही बैठ गई। फिर उसने कहा कि आपका बहुत बहुत शुक्रिया कि आप आ गये। मैंने आपकी बहुत तारीफ सुनी थी और मेरे दिल में आपकी पाने की तमन्ना जाग उठी फिर हम काफी पीने लगे तो उसने पूछा कि क्या खाओगे तो मैंने कहा कि मैं खाना खाकर ही आया हूं तो उस ने कहा कि मैंने आपके लिए खाना बनाना था पर काफ़ी इंतजार के बाद मैंने भी खा लिया है। “Village Horny Sister”

फिर उस ने काफी के खाली कप रसोई में रखे और दूध के दो गिलास लाकर टेवल पर रख दिए और बोली कि दूध अभी गर्म है। तुम्हारा जब जी चाहे पी लेना । फिर बह सोफे पर बैठ गए और मेरे गालों को किस्स करते हुए पैंट के ऊपर से मेरी जांघों पर हाथ फेरने लगी। तो मेरा लंड पैंट के अंदर फूलने लगा उसने ऊपर से ही उसे सहलाना शुरू कर दिया और थोड़ी देर बाद उसने कहा कि मैं आपकी पैंट उतार कर आप के हथियार का दर्शन करना चाहती हूं.

तो मैं खड़ा हो गया और अपनी पैंट उतारने लगा तो उस ने मेरी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए और मेरी शर्ट उतार दी अब मैं सिर्फ अंडरवियर में खड़ा था। तभी उसने मेरी दोनों छातीओं को बारी बारी से चूमा तो मुझे गुदगुदी होने लगी और मेरा लंड मुरझाने लगा फिर बह नीचे बैठ गई और मेरे लंड को अंडरवियर में से बाहर निकाल दिया और उसको गौर से देखने लगी।

फिर उसने कहा कि यह क्यों सो गया तो मैंने कहा कि गुदगुदी की वजह से हो गया था पर अभी जाग जाएगा। तो मैडम ने उसे हाथ में पकड़ लिया और किस्स करके बोली बहुत खुशबूदार है।और उसकी खाल को पीछे करके उसे अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। मैं मैडम के सिर के बाल सहलाने लगा तो मेरा लंड एकदम फ़ूल गया और मैडम के मुंह में कस गया तो मैडम ने झट से अपने मुंह में से बाहर निकाल दिया और बोली कि यह तो बहुत मोटा हो गया है और मेरे मुंह में नहीं आ समा रहा था।

फिर मैडम ने खड़े होकर अपनी नाईटी उतार फैंकी और मुझ से लिपट गई और फिर अपनी ब्रा उतार कर अपने दोनों मोटे-मोटे स्तनों को अपने हाथ से दबाने लगी फिर उसने कहा कि क्या तुम इन को चूसोगे तो मैंने शरमाते हुए हां कहा और मैडम को पलंग पे लिटा कर उसके ऊपर चढ़ कर दोनों स्तनों को बारी बारी चूसने लगा। मेरा तना हुआ लंड मैडम की चूत पर पैंटी के ऊपर से टक्करें मारने लगा।

तो मैडम ने अपना एक हाथ नीचे करके मेरे लंड को पकड़ लिया और बोली कि यह तो अंदर जाने के लिए बहुत उतावला हो रहा है।पर मेरी चूत अभी इसको अपने अंदर लेने को तैयार नहीं है। बबलू क्या तुम मेरी चूत को चाट कर थोड़ा गीला कर दोगे तो मैंने कहा कि मैडम मैं भी आपकी चूत को चाटना चाहता हूं। तो मैडम ने कहा कि तुम अपना लंड मेरे मुंह की तरफ़ कर के मेरी चूत को चाटो और मैं तुम्हारे लंड को अपनी जीभ से चाटूंगी । “Village Horny Sister”

फिर मैंने मैडम की पैंटी उतार फैंकी और 69 की पोजीशन में आ कर मैडम की चूत को देखा जो क्लीनशेव थी और फूली हुई थी मैं मक्खन जैसी चूत को चाटने लगा तो मुझे उसमें से बहुत अच्छी खुशबू आने लगी मैडम मेरे लंड के सुपाड़े को जीभ से चाटने लगी और अपनी टांगें फैला कर क़मर को हिलाने लगी और फिर हाय हाय करने लगी तभी मैडम ने मेरा लन्ड छोड़ दिया और तड़पने लगी और बोली कि बबलू अब रहा नहीं जा रहा जल्दी से अपना मोटा लंड घुसा कर मेरी चूत को फ़ाड़ डालो।

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : दिवाली में चुदाई प्यासी मौसी की गरम चूत

तो मैं झट से उठ कर मैडम की मोटी मोटी गोरी जांघों के बीच बैठ गया और तो मैडम ने आपने दोनों हाथ बढ़ा कर अपनी चूत के सुराख को थोड़ा खोलकर कर कहा कि जल्दी करो तो मैंने अपना लोहे जैसा सख़्त लंड चूत के मुंह पर रख कर ज़ोर का धक्का लगाया तो मैडम छटपटा उठी और मेरा आधा लंड चूत के अंदर चला गया।

मैडम की आंखों से आंसू निकल पड़े पर उसने मेरी कमर को अपनी लम्बी जांघों में जकड़ लिया और मुझ से लिपट कर बोली कि अब पूरा घुसा कर मुझे चोदते रहो तो मैंने अपने लंड को थोड़ा पीछे खींच कर एक और जोर का धक्का लगाया और अपना पूरा लंड मैडम की चूत में उतार दिया। मैडम की सांस फूलने लगी और उसने मुझे थोड़ी देर रुकने को कहा।

फिर उसने मेरे गालों पर किस्स किया और कहा कि अब फ़िर से धक्के लगाओ तो मैंने धक्के लगाने शुरु कर दिए। थोड़ी देर बाद मैं और मैडम पूरे जोश में आ गए और सिसकारियों से पूरा कमरा गूंज उठा। मैडम पहले आह आह करने लगी फिर हाय हाय करने लगी और नीचे से अपनी मोटी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी और थोड़ी देर बाद बह झड़ गई। पर मैं धक्के पर धक्का लगाए जा रहा था।

थोड़ी देर बाद मैडम ने मेरा तना हुआ लंड अपनी चूत में से बाहर निकाल दिया और बह घुटनों के बल हो कर घोड़ी बन गई और मैं पीछे से उसकी चूत में लंड डाल कर उसके मोटे मोटे नितम्बों पर हाथ फेरते हुए चोदने लगा। मैडम फिर से जोश में आ गई और अपनी कमर मटका मटका कर चुदवाने लगी और थोड़ी देर बाद बह फिर झड़ गई और मैंने भी उसकी कमर को जोर से पकड़ कर अपना पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में ठोक कर पिचकारी छोड़ दी और मैडम की पीठ पर ढेर हो गया। “Village Horny Sister”

फिर मेरे लंड से आखिरी बूंद भी निकल गई तो मैंने अपना लंड चूत में से बाहर निकाल लिया जो अभी भी तना हुआ था फिर मैडम ने बैठ कर मेरे लंड को हाथ में पकड़ लिया और अपनी जीभ से चाट चाट कर साफ़ कर दिया और मुझे अपनी बाहों में भर कर पलंग पर लिटा लिया और मुझे किस्स करते हुए बोली कि बबलू यूं आर वैरी स्वीट एण्ड सेक्सी। थोड़ी देर आराम करने के बाद हमने दूध पिया और दोबारा शुरू हो गये।

उसर रात हम ने चार बार सेक्स किया। उसकी बातें सुनने में पहले तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था पर थोड़ी देर के बाद मेरी धड़कन तेज होने लगी और मुझे कुछ कुछ होने लगा और मेरे स्तन फूलने लगे तथा मेरी फुद्दी में भी सरसराहट होने लगी पर मैं बबलू के मुख से चुदाई की कहानी सुनती रही फिर अचानक मेरा हाथ मेरी सलवार के ऊपर मेरी फुद्दी पर चला गया और अपनी फुद्दी को धीरे धीरे सहलाने लगी और तो मुझे और मज़ा आने लगा.

तो मैं अपने एक हाथ से अपने सख्त स्तनों को दबाने लगी पर मेरे दिल में और आग भड़कने लगी और मैं इतना गर्म हो गई कि मैं एक बार झड़ गई पर कमरे मैं अंधेरे की वजह से मैंने बबलू को पता भी न लगने दिया। पर जब बबलू ने अपने मैडम की आह आह और हाय हाय की बात सुनाई तो मैं बबलू से लिपट कर कहानी सुनने लगी।

कहानी सुनते सुनते मेरा हाथ बबलू की लूंगी की तरफ़ जाने लगा तो उसके तने हुए मोटे लंड से टकरा गया जो किसी मूसल की तरह मोटा और गर्म लग रहा था फिर मैंने हिम्मत करके उसे अपने हाथ से पकड़ लिया और उस पर हाथ फेरने लगी फिर बबलू का एक हाथ पकड़कर मैंने अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी फुद्दी पर रख दिया। तो बबलू ने कहा कि दीदी यह क्या कर रही हो।

तो मैंने कहा कि मुझे कुछ कुछ हो रहा है तो बबलू ने अपना हाथ मेरी फुद्दी पर से हटा दिया और कहा कि दीदी अब सो जाओ क्योंकि चुदाई की कहानियां सुन कर सभी को ऐसा होता है।आप मेरे लंड से अपना हाथ हटा लो और अपना ध्यान किसी और बात की तरफ ले जाओ तो आपको नींद आ जाएगी।

तो मैंने बबलू का दूसरा हाथ पकड़ कर अपनी छाती पर रख कर कहा कि देखो मेरा दिल कितने ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा है अब मैं क्या करूं। तो बबलू ने कहा कि मेरा दिल भी तो बहुत धड़क रहा है और मेरे लंड में भी कुछ कुछ हो रहा है पर क्या करें। आप अपनी फुद्दी की खुजली मेरे लंड से नहीं मिटा सकतीं क्योंकि हमारा आपस में रिशता ही भाई बहन का है। इसलिए हमें अपने हाथों से ही लंड और फुद्दी को शांत करना पड़ेगा। “Village Horny Sister”

पर मैंने उसको खींच कर अपने गले से लगा लिया और कहा क्या तू भाई हो कर भी मेरी मदद नहीं करेगा। क्या तू मेरी फुद्दी की खुजली नहीं मिटाएगा। तो बबलू ने कहा कि फुद्दी की खुजली तो लंड से ही मिटाई जा सकती है। पर मेरा लंड बहुत मोटा है इस से आपकी फुद्दी फट जायेगी और आप को बहुत दर्द भी होगा।

तो मैंने कहा कि तो फिर हम क्या करें तो बबलू ने कहा कि मैं आपकी फुद्दी को चाट चाट कर ठंडा करने की कोशिश करूंगा और आप अपने हाथ से मेरे लंड को आगे पीछे करते रहना इससे मेरा भी काम हो जाएगा।तो मैं मान गई। फिर मैंने उठ कर कमरे की लाईट जला दी और बबलू के साथ लिपट कर लेट गई फिर मैंने बबलू की बनियान को उतार दिया और अपनी टी-शर्ट को ऊपर उठा कर अपने मोटे मोटे गोरे स्तन नंगे कर दिए।

फिर बबलू की छाती से अपनी छाती लगा कर उस के गालों को चूमने लगी। तो बबलू भी जोश में आ गया और मेरे स्तनों को अपने मुंह में ले कर बारी बारी से चूसने लगा।उसका लंड लूंगी मैं से मेरी सलवार के ऊपर से मेरी टांगों के बीच टकराने लगा। उसने मेरे मम्मों को चूसते हुए अपने हाथ मेरी पीठ पर फेरने शुरू किए और फिर उसके हाथ मेरी कमर से सहलाते हुए मेरी सलवार के अन्दर जाने की कोशिश करने लगे पर सलवार का नाड़ा कसा हुआ था इसलिए अंदर तक नहीं पहुंच सके।

तो मैंने अपने हाथ नीचे करके अपनी सलवार का नाड़ा खोल दिया और फिर उसके हाथ मेरे नंगें चूतड़ों पर फिसलने लगे। फिर बह सलवार के अन्दर हाथ डाल कर मेरी जांघों को सहलाते हुए मेरी फुद्दी तक पहुंच गया और फुद्दी पर हाथ फेरते हुए बोला कि दीदी इस पर तो बहुत बाद हैं कभी काटे नहीं। तो मैंने कहा कि शादी से पहले नहीं काटूंगी। फिर बह मेरी फुद्दी को सहलाने लगा तो मुझे बहुत मज़ा आने लगा और मैं गर्म होने लगी। “Village Horny Sister”

तभी मैंने उसकी लूंगी खोल दी। फिर जब मैंने उसके तने हुए लंड को देखा तो मेरे होश उड़ गए बह काफी लम्बा और मोटा था। मैंने उसे अपने हाथ में पकड़ लिया और सहलाने लगी। फिर मैंने अपनी सलवार निकाल दी। बबलू पीठ के बल लेटा हुआ था और उसका लंड छत की तरफ खड़ा हो कर सलामी दे रहा था।मैं पलंग पर एक तरफ बैठ कर उसके लंड के साथ खेल रही थी और बबलू एक हाथ मेरे नितंबों पर फेर रहा था। “Village Horny Sister”

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : Nargis Begum Ke Chuttad Ne Lund Ko Rod Banaya

फिर जब मैंने उसके लंड की खाल को पीछे की तरफ खींचा तो उसका लाल सुपाड़ा बाहर निकल आया जो बहुत सुंदर लग रहा था। मैं उसको अपनी जीभ से चाटने लगी। तभी बबलू ने मेरे ने मेरे चूतड़ों को पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया और मुझे अपने मुंह पर बिठा दिया। मैं अपने घुटने उसके सर के दोनों ओर लगा कर बैठ गई।अब मेरी कुंवारी फुद्दी बबलू के मुंह के पास थी और मैं झुक कर उसके लंड को चाट रही थी।

बह मेरे चूतड़ों को पकड़ कर मेरी फुद्दी को चाटने लगा। उसकी जीभ का स्पर्श अपनी फुद्दी पे पाते ही मुझे मजा आने लगा और मैं अपने हाथ में बबलू का लंड पकड़े आह आह करने लगी फिर मैंने कहा और जोर से चाटो बड़ा मज़ा आ रहा है हाय हाय हाय करते हुए मैं अपनी गोरी गांड को हिलाने लगी। थोड़ी देर बाद मैं बहुत ही गर्म हो गई तो मैंने बबलू से कहा कि जल्दी से मेरी फुद्दी में कुछ घुसा कर खुजली मिटा दो.

तो बबलू ने कहा कि पहले तुम पीठ के बल लेट जाओ तो मैं अपनी गुदाज़ टांगें चौड़ी कर के लेट गई और बबलू मेरी टांगों के बीच बैठ कर पहले मेरी फुद्दी को चाटने लगा पर जब मैं पूरी गर्म हो गई और मेरी फुद्दी में आग सी लग गई तो मैंने कहा कि अब देर मत करो तो बबलू ने अपनी एक उंगली जैसे ही मेरी फुद्दी में घुसाई तो मैं चीख पड़ी मुझे दर्द सा हुआ पर उसने उंगली को पूरा घुसा दिया और आगे पीछे करने लगा.

थोड़ी देर बाद मुझे और नशा चढ़ने लगा और मैं कहने लगी कि उंगली से मजा नहीं आ रहा कुछ मोटा घुसाओ न तो बबलू ने खून से लाल हुई अपनी उंगली मेरी फुद्दी में से बाहर निकाल कर मुझे दिखाते हुए कहा कि दीदी देखो मेरी एक उंगली से तुम्हारी फुद्दी में से खून निकल गया है तो क्या तुम अपनी फुद्दी में मेरा मेरे इस लंड को झेल पाओगी। “Village Horny Sister”

तो मैंने कहा कि कोशिश तो करो वरना मैं मर जाऊंगी और मैंने उसका लंड अपने हाथ में पकड़ कर अपनी फुद्दी पर रगड़ना शुरू कर दिया और ज़ोर से आहें भरने लगी जब मुझ से बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने लंड को पकड़ कर उसके सुपाड़े को अपनी फुद्दी के मुंह पर सैट कर के कहा कि अब ज़ोर से धक्का लगाओ तो बबलू ने काफ़ी ज़ोर लगाया पर लंड प्रवेश नहीं हो सका।मैं मछली की तरह तड़पने लगी और बबलू को भी पसीना आ गया।

फिर मैंने उठकर वैसलीन की डिब्बी निकाली और अपने हाथ में वैसलीन लेकर बबलू के लंड पर अच्छी तरह लगाई जिससे उसका लंड और तन गया और चमकने लगा फिर मैं कुछ वैसलीन अपनी उंगली से अपनी फुद्दी के अंदर तक लगाकर अपनी टांगें फैला कर लेट गई और बबलू को मेरे ऊपर चढ़ने को कहा। जैसे ही बबलू मेरी टांगों के बीच बैठ कर अपना तना हुआ लंड मेरी फुद्दी से लगाने लगा तो मैंने लंड कोअपने एक हाथ से पकड़ लिया और अपनी फुद्दी के सुराख पर रख कर बबलू से ज़ोर का धक्का लगाने को कहा।

बबलू ने पूरी ताकत लगाकर धक्का लगाया पर लंड मेरी फुद्दी के बालों को उखाड़ता हुआ वहां से फिसल गया और अंदर नहीं जा सका। मैं जोश से तिलमिला कर उठ कर खड़ी हो गई और बबलू को पलंग पर पीठ के बल लिटा दिया। उसका लंड भी पूरे जोश मे था और लंड का सुपाड़ा फूल कर लाल हो गया था।

मैं बबलू के दोनों तरफ पैर रख कर पलंग पर खड़ी हो गई और उसका हाथ पकड़ कर अपनी फुद्दी पर रखा और उसकी एक उंगली पकड़ कर अपनी फुद्दी में घुसा दी और बबलू को तेज़ तेज़ आगे पीछे करने को कहा। थोड़ी देर के बाद जब मुझ से रहा नहीं गया तो मैंने अपने दोनों हाथों से अपनी फुद्दी का मुंह फैला कर उंगली बाहर निकाल दी और बबलू के तने हुए लंड पर बैठ गई और सुपाड़े को अपनी फुद्दी के सुराख पर रख कर ज़ोर का धक्का लगाया तो मेरे बबलू का आधे से ज्यादा लंड मेरी फुद्दी को चीरता हुआ अंदर चला गया। “Village Horny Sister”

मेरी आंखों के आगे अंधेरा छा गया और मेरे मुंह से एक जोर दार चीख निकल गई और मैंने बेसुध हो कर बबलू के पेट पर गिर पड़ी। थोड़ी देर बाद जब मुझे होश आया तो बबलू का लंड मेरी फुद्दी फंसा हुआ था और बबलू मेरी पीठ और कमर को सहला रहा था।जब मेरी नज़रें बबलू से मिलीं तो बबलू ने मुस्कुराते हुए कहा कि आशु दीदी आप को मुबारक हो कि आप की सील टूट गई और धन्य हो आप जो मेरा इतना मोटा लंड अपनी फुद्दी में लेकर बैठी हो।

उसकी यह बात सुनकर मुझे जोर की हंसी आ गई और मैंने कहा कि मेरी जान निकल रही है और तुम मुबारक कह रहे हो। फिर मैंने अपनी फुद्दी को हाथ लगा कर चैक किया तो पता चला कि बबलू का थोड़ा सा लंड अभी भी बाहर था फिर मैं आहिस्ता से अपनी गांड़ को थोड़ा सा ऊपर उठा कर ऊपर नीचे करने लगी तो थोड़ी देर बाद मुझे भी मज़ा आने लगा और र मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोश में आकर एक जोर का धक्का लगाया.

तो बबलू का पूरा लंड जड़ तक मेरी फुद्दी में जाकर कर अंदर टकरा गया और मैं वहीं रुक कर बबलू से बोली कि देखो तुम्हारा लम्बा और मोटा तना हुआ लंड मैंने अपने अंदर पूरा ले लिया है। तो उसने कहा कि दीदी यूं आर ग्रेट। फिर मैं अपनी गांड़ को ऊपर-नीचे करते हुए मज़ा लेने लगी ।जब मेरे तने हुए मोटे मोटे स्तन उच्छलने लगे तो मैंने बह बबलू के हाथों में पकड़ा दिये और मसलने को कहा।

अब मैं पूरे जोश में आकर चुदवाने लगी और जोर जोर से कहने लगी कि हाय हाय हाय नीचे से धक्के लगाओ हाय अपना पूरा लंड मेरी फुद्दी में घुसा कर मेरी फुद्दी को फाड़ डालो हाय हाय पहली बार इतना मजा आ रहा है हाय हाय हाय मुझे कुछ हो रहा है कहते हुए मैं अपनी गांड़ उछाल उछाल कर चुदवाते हुए झड़ गई और बबलू का लंड अपनी फुद्दी में डाले हुए बबलू पर लुढ़क गई। थोड़ी देर बाद मैंने बबलू से कहा कि अब मैं थक गई हूं। “Village Horny Sister”

और मैंने बबलू का लंड अपनी फुद्दी से निकाल कर देखा तो उस पर बहुत ख़ून लगा हुआ था। फ़िर मैं उठ कर बाथरूम में गई और और एक टावल को गीला कर के पहले अपनी फुद्दी का खून अच्छी तरह साफ़ किया और फिर अपने कमरे में आ कर बबलू के तने हुए लंड को गीले टावल से साफ़ किया।और फिर बबलू के साथ लेट कर उसके लंड को हाथ में पकड़ कर सहलाने लगी। “Village Horny Sister”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : Mera Kamuk Badan Jalne Laga Bhai Ki Bahon Me

मैंने बबलू को चूमते हुए कहा कि अब तुम्हारा लंड कैसे ठंडा करूं तो उसने कहा कि अब मैं आपको चोद कर पूरा मज़ा दूंगा तो मैंने कहा कि पर मैं अपनी फुद्दी में करवाऊंगी तो मुझे बच्चा ठहर जाएगा तो उसने कहा कि मैं दीपू के कमरे से अभी कंडोम ढूंढ कर लाता हूं और फिर वह कंडोम का पैकेट लेकर आ गया। तो मैंने कहा कि अब तुम अपनी मर्जी से मुझे चोद कर मज़ा दो।और मैं अपनी टांगें फैला कर पीठ के बल लेट गई।

बबलू मेरी टांगों के बीच बैठ कर मेरी फुद्दी को चाटने लगा मुझे बहुत मज़ा आने लगा और मेरी फुद्दी में से पानी निकलने लगा जब मैं जोश में आ गई तो मैंने कहा कि अब जल्दी से अपना लंड डाल कर चोद डालो तो बबलू ने अपने लंड पे ढेर सारा थूक लगाया और मेरी फुद्दी के सुराख पर रख कर ज़ोर का धक्का लगाया तो उसका पूरा लंड मेरी फुद्दी के अंदर समा गया और बह धक्के पे धक्का लगाने लगा मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

और जब बह मुझे चोदते हुए मेरे स्तन चूसने लगा तो मैं उसकी पीठ पर हाथ फेरते हुए कहने लगी कि हाय हाय बबलू और जोर से चोद बड़ा मज़ा आ रहा है और मैं नीचे से अपनी गांड़ को उठा उठा कर चुदवाने लगी और हम दोनों की सांसें तेज होने लगी तो बबलू ने अपना तना हुआ गीला लंड मेरी फुद्दी में से बाहर निकाल लिया तो मैंने कहा कि क्यों निकाला बहुत मज़ा आ रहा था तो बबलू ने कहा कि अब मैं भी झरने वाला हूं इसलिए लंड पर कंडोम लगाना पड़ेगा। “Village Horny Sister”

और उसने कंडोम निकाल कर मेरे हाथ में पकड़ा दिया और फिर मैंने पहली बार किसी के लंड पर कंडोम लगाया और फिर बबलू ने मुझे उल्टा कर के घोड़ी बना दिया और मेरे पीछे जाकर पहले मेरे नितंबों को सहलाया फिर बीच में बैठ कर मेरी फुद्दी को चाट चाट कर गर्म और गीला कर दिया ।और जब मुझ से रहा नहीं गया तो मैंने कहा कि अब रहा नहीं जाता अब आपना लंड मेरी फुद्दी में डाल कर चोद डालो।

तो बबलू ने अपना लंड मेरी फुद्दी पर रख कर मेरी क़मर को पकड़ कर एक ही धक्के में अपना पूरा लंड अंदर कर दिया और फिर धक्के लगाने लगा। जब उसने स्पीड बढ़ाई तो हम दोनों जोर जोर से सिसकारियां लेने लगे और पूरा कमरा आवाज से गूंजने लगा तभी उसने मैं झड़ने लगी तो उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और जोर जोर से पूरा लंड अंदर बाहर करने लगा। फिर उसने पूरा लंड अंदर घुसा कर मुझे अपनी ओर खींच लिया और जोरदार पिचकारी मेरे अंदर छोड़ने लगा। “Village Horny Sister”

फिर कुछ धक्के लगाते हुए उसकी पकड़ ढीली होने लगी।और उसने तक कर मेरी फुद्दी में से लंड बाहर निकाल लिया। उसका लंड फूल निकलते ही तक कर पलंग पर पीठ के बल लेट गई और बबलू को अपने ऊपर लिटा कर चूमने और प्यार करने लगी। उस रात हम ने चार बार सेक्स किया और थक कर सो गए।

सुबह उठकर में जब नहाने लगी तो देखा मेरी फुद्दी सूज गई थी। फिर मैंने बबलू को जगाया और उसे बताया कि मेरी फुद्दी तो सूज गई है तो उस ने कहा कि दीदी चिंता मत करो अब यह फुद्दी नहीं एक बहुत प्यारी चूत बन गयी है ।एक दो दिन में ठीक हो जाएगी और फिर आप अगर चाहो तो इसमें गधे का लंड भी आराम से जा सकेगा। फिर हमें जब मौका मिलता हम मज़ा लेते रहे।

दोस्तों आपको ये Village Horny Sister की कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे………….

Leave a Reply