Bhatroom Me Meri Chudai – बुर का रस चूस चूस कर पिने लगा


Bhatroom Me Meri Chudai

मै बाथरूम में नहा रही थी। मैने पेटीकोट पहन रखा था गीला होने की वजह से वो पूरी तरह से मेरे शरीर से चिपका हुआ था। ऊपर से झरने का पानी बह रहा था गीला पेटीकोट मैने कमर से खोल कर अपनी चूची के ऊपर से बांध रखा था जिससे पेटीकोट मेरी चूची मेरे पेट और मेरी गान्ड से चिपका हुआ था घर में कोई नहीं था पता नहीं वो कहा से आया। Bhatroom Me Meri Chudai

उसने मुझे नहाते हुए देख लिया और तुरंत अपने कपड़े खोलकर वो भी बाथरूम में घुस गया और मुझे पीछे से दबोच लिया और मेरी गांड सहलाने लगा। मैं डर गई और मैने उसे धक्का दे दिया। उसने मुझे फिर दबोच लिया और मुझे दीवार में चिपका दिया। वो मेरे होटों को कस कस कर चूसने लगा।

मै उसे लगातार धक्का दे रही थी पर उसकी पकड़ मजबूत थी इसीलिए मै खुद छुड़ा नहीं पाई और वो मेरे होठ चूसता रहा। फिर उसने मेरे पेटीकोट के कट में से मेरी चूची निकाल ली और उसे चूसने लगा और एक हाथ से मेरा बुर सहलाने लगा मैं उसके हाथ को झटक कर हटा देती वो फिर जबरदस्ती मेरे बुर को सहलाने लगता।

उसने अपनी दो उंगलियां मेरे बुर में घुसा दी और अन्दर बाहर करने लगा। उसने मेरी दूसरी चूची भी बाहर निकाल ली और उसे चूसने लगा और अपने दूसरे हाथ मेरी पहली चूची सहलाने लगा। मै उसे लगातार धक्का मार कर हटा रही थी लेकिन वो मुझे बार बार दबोच लेता जब जब में उसका विरोध करती।

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : होली वाले दिन माँ को मुझसे चुदने का मौका मिल गया

विरोध करते करते मैं थक गई, उंगली अन्दर बाहर करने और चूची पीने से मै गरम होने लगी और मै सिसकारी भरने लगी। अब वो समझ गया था कि में गरम हो चुकी हूं तो वो नीचे बैठ गया और मेरे पेटीकोट को ऊपर उठाकर मेरा बुर चाटने लगा और अपनी जीभ घुसा कर मेरे बुर को चूसने लगा।

वो मेरे बुर को कस कस कर जीभ घुसा घुसा कर चूस रहा था और में सिसिया रही थी। में एक औरत हूं जब कोई इतनी बुरी तरह से दबोच कर सहलाए तो कितनी देर विरोध करती जैसे ही मैने थक कर अपना शरीर ढीला छोड़ा तो उसके बुर सहलाने से मैं गरम होने लगी थी। उसने उसका पूरा फायदा उठाया।

फिर उसने मुझे घुमा दिया वासना की वजह से मुझे होश ही नहीं रहा और मै घूम गई। उसने मेरी कमर को पकड़ कर पीछे खींचा तो में थोड़ा झुक गई और उसने मेरे गीले पेटीकोट को जो मेरी गांड से सट कर मेरी गांड के छेद में चिपका हुआ था उसे मेरी गांड पर हटा कर मेरी गांड को सहलाने चाटने और चूसने लगा।

मेरी गांड में वो अपनी जीभ घुसाकर उसे कस कस कर चूस रहा था और में जोर जोर से सिसीया रही थी। फिर वो खड़ा हुआ और मेरे गीले पेटीकोट को पेट तक उठा दिया और खड़े खड़े ही मेरे बुर में अपना लन्ड घुसाकर मेरे होटों को चूसते हुए मुझे कस कस के चोदने लगा।

चुदाई की गरम देसी कहानी : सगी बहन की चूत एकदम कुंवारी थी

मै अभी भी दीवार से चिपकी हुई थी और उसने मुझे अपनी मजबूत बाहों में जकड़ रखा था और मेरी गांड सहलाते हुए मुझे कस कस के चोद रहा था। उसके चोदने कि स्पीड इतनी ज्यादा थी कि मै एकदम नशे में उससे चुदवाने लगी मैने भी उसे अपनी बाहों में जकड़ा लिया और अपनी गांड आगे पीछे कर के चुदवाने लगी.

चोदते चोदते उसने मेरा गीला पेटीकोट उतार कर फेंक दिया और मुझे नंगी कर दिया। अब मै बिल्कुल नंगी थी हमारे ऊपर झरने का पानी गिर रहा था उसने भी अपना गमछा खोल कर फेक दिया और नंगा हो गया। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे एक दूसरे की बाहों में जकड़े हुए वो मुझे अंधा धुन चोदे जा रहा था और में जोर जोर से सिसकारी भर रही थी।

मेरे सिसकारी भरने से वो और जोश मै आकर बुरी तरह से मुझे चोद रहा था ना वो झड़ रहा था ना मै झड़ रही थी. खड़े खड़े चुदवाते चुदवाते थक गई तो मै नीचे बैठ गई वो भी मेरे साथ नीचे बैठ गया और मुझे अपनी गोद में बैठा लिया.

उसकी टांगे मेरी पीठ की पीछे और मेरी टांगे उसकी पीठ की पीछे और उसने एक बार फिर मेरे बुर में अपना खड़ा लंड घुसा दिया और मै अपनी गांड को उछाल उछाल कर उससे चुदवाने लगी। चुदवाते चुदवाते में झड़ने लगी तो मैने उसे कसकर अपनी बाहों में दबोच लिया और जोर जोर से सिसियाते आह आह आह आह आह………. ह करते हुए मै झड़ गई. “Bhatroom Me Meri Chudai

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : आंटी की बड़ी गांड चाट कर चूत से पानी निकाल दिया मैंने

और फिर उसने मुझे खड़ा कर दिया और मेरे बुर के रस को चूस चूस कर पीने लगा। जब उसने सारा रस पीलिया तो उसने मुझे घुमा कर खड़ा कर दिया और थोड़ा झुका दिया और मेरी गांड चाटने लगा। वो अभी नहीं झड़ा था इसलिए वो मेरी गांड चोदना चाहता था मै तो चुदाई के नशे में थी इसलिए मना नहीं कर पाई झरने से पानी गिर रहा था.

जिसे मेरी गांड गीली हो गई थी और बची खुची कसर उसके गांड चाटने से पूरी हो गई। उसका लन्ड मेरे बुर के रस से गीला था तो जैसे ही उसने मेरी गांड मै अपना लन्ड घुसाया तो सट से उसका पूरा का पूरा लन्ड मेरी गान्ड में घुस गया। अब उसने मेरी कमर को पकड़ लिया और कस कस के मेरी गांड चोदने लगा।

चोदते चोदते उसने मुझे खड़ा कर के अपनी छाती से चिपका लिया और मेरी चूची को सहलाने लगा और मेरे होटों को चूसते हुए मेरी गांड चोदने लगा। मेरी टाइट गांड में वो जादा देर नहीं टिक पाया। जैसे ही वो झड़ने लगा तो उसने अपना लन्ड मेरी गांड में से निकाल कर मुझे घुमा कर मेरा एक पैर उठा कर मेरे बुर में अपना लन्ड घुसा दिया.

और मुझे कस के अपनी छाती में दबोच कर मेरे बुर में कस कस के धक्के पे धक्के मारते हुए मेरे बुर को चोदते हुए मेरे बुर में सिसियाते हुए झड़ गया और मुझे 10 मिनट तक दबोच कर खड़ा रहा जब तक उसकी एक एक बूंद मेरे बुर में नहीं झड़ गई। फिर उसका लंड अपने आप मेरे बुर से बाहर आ गया। फिर वो नहा कर चला गया और में भी नहा कर अपने कमरे में चली आयी और काफी देर तक सोचती रही कि ये बहुत गलत हुआ है और अफसोस करती रही।

दोस्तों आपको ये Bhatroom Me Meri Chudai की कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे……………

Leave a Reply